Blog Posts - लोग



मरे घर के मरे लोगों की खबर भी होती है मरी मरी पढ़कर मत बहकाकर

by Ulooktimes on Aug 31, 2016

अच्छे लोग और उनके उनके लिये मिमियाते बकरे

बकरे कटने के लिये ही होते हों या बकरे हर समयहर जगह कटें ही जरूरी नहीं है हर कोई बकरे नहीं  काटता...
by Ulooktimes on Aug 19, 2016

ऊपर वाले के जैसे ही कुछ अपने अपने नीचे भी बना कर वंदना कर के आते हैं

by Ulooktimes on Feb 26, 2016

श्रद्धांजलि अविनाश जी वाचस्पति

by Ulooktimes on Feb 8, 2016

‘रोहित’

सारे के सारे सब कुछ कह चुके गणित लगा कर जोड़ घटाना गुणा भाग कर अपने अपने लिये अपने अपने हिसाब से बन...
by Ulooktimes on Jan 22, 2016

लोगों की लोगों द्वारा लोगों के लिये

अब्राहम लिंकन लोगों के लिये बोल गये थे लोगों की समझ में आज तक बात नहीं घुस पाई है धूर्तों की जय हो...
by Ulooktimes on Jan 17, 2016

गाँधी बाबा देखें कहाँ कहाँ से भगाये जाते हो और कहाँ तक भाग पाओगे

by Ulooktimes on Oct 4, 2015

जन्म दिन अभी तक तो तेरा ही हो रहा है आज के दिन कौन जाने कब तक

कुछ देर के लिये याद आया तिरंगा उससे अलग कहीं दिखी तस्वीर संत की माने बदल गये यहाँ तक आते आते उसके...
by Ulooktimes on Oct 2, 2015

उतनी ही श्रद्धाँजलि जितनी मेरी कमजोर समझ में आती है तुम्हारी बातें वीरेन डंगवाल

by Ulooktimes on Sep 29, 2015

लिंगदोह कौन है ? पता करवाओ

by Ulooktimes on Sep 24, 2015

नयी दिशा

by Abhinav on Jul 25, 2014

वे सांप्रदायिक-राजनैतिक नहीं होते .........

लोग अक्सर पढ़े लिखे लोग चिल्लाते हैंकभी राजनीति परए कभी धर्म परलिखते हैं बड़ी-बड़ी इबारतें काली...
by loksangharsha on Apr 25, 2011


Trending Topics

Close